कुत्ता काटे तो तुरंत करें ये 3 काम

कुत्ता काटे तो इसे हल्के में ना लें। क्यों की कुत्ते के काटने से रेबीज एक संक्रमण बीमारी होती है, जो जानवर की लार से फैलती है। इससे इंसान के शरीर में कई तरह की समस्या जन्म लेने लगती हैं और इंसान अस्वस्थ हो जाता हैं। आज इसी विषय में जानने की कोशिश करेंगे कुछ ऐसे काम के बारे में जो काम कुत्ता के काटने पर तुरंत करें। तो आइये इसके बारे में जानते हैं विस्तार से।

कुत्ता काटे तो तुरंत करें ये 3 काम

1 .जिस जगह पर आपको कुत्ता ने काटा हो सबसे पहले उस स्थान को तुरंत पानी और साबुन से अच्छी तरह धो लें। इसके बाद जानवर के काटने के तुरंत बाद रोगी के टिटनेस का इंजेक्शन लगवाना चाहिए। ताकि शरीर में रेबीज का संक्रमण ना फैल सके।

2 .अगर आपको कुत्ता ने काट लिया हैं तो आपको डॉक्टर की परामर्श लेकर सही इलाज कराना चाहिए। साथ ही साथ रेबीज का इंजेक्शन लेना चाहिए ताकि भविष्य में किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना करना ना पढ़ें। इसलिए सभी व्यक्ति को इस बात का ख्याल रखना चाहिए।

3 .अगर आपको कुत्ता ने काट लिया हैं तो आप सबसे पहले उस जगह को डिटॉल से साफ करें और उसे पतला कपड़ासे बांध दें ताकि शरीर में संक्रमण ना फ़ैल सकें। साथ ही साथ तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। क्यों की कई बार देर होने से कुत्ते काटने का संक्रमण शरीर में फ़ैल जाता हैं। जिससे इंसान को काफी समस्या होती हैं।

घर में कुत्ता पालने के नुकशान

1. अपशुकुनी होता है कुत्ता : कुत्ते के भौंकने और रोने को अपशकुन माना जाता है। सूत्र-ग्रंथों में भी श्वान को अपवित्र माना गया है। इसके स्पर्श व दृष्टि से भोजन अपवित्र हो जाता है। अपशकुन शास्त्र के अनुसार श्वान का गृह के चारों ओर घूमते हुए क्रंदन करना अपशकुन या अद्‍भुत घटना कहा गया है और इसे इन्द्र से संबंधित भय माना गया है। शुभ कार्य के समय यदि कुत्ता मार्ग रोकता है तो विषमता तथा अनिश्चय प्रकट होते हैं।

2. देवता नहीं आते हैं उस घर में : कहते हैं जहां कुत्ता होता हैं वहां देवआत्माएं नहीं आती हैं। पूजा पाठ सब व्यर्थ हो जाते हैं। कुत्ते का घर में होना अर्थात यमदूत का घर में होना बताया गया है। कहते हैं कि कुत्ता जिस भी घर में होता है या तो वह घर बर्बाद हो जाता है या फिर उस घर की तरक्की दिन दूनी और रात चौगुनी होती है। ऋग्वेद में एक स्थान पर जघन्य शब्द करने वाले श्वानों का उल्लेख मिलता है, जो विनाश के लिए आते हैं।