तिरंगे से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

तिरंगे से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

तिरंगे से जुड़े कुछ रोचक तथ्य – नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी?  उम्मीद है कि आप सभी स्वस्थ होंगे।  दोस्तों में एक बार फिर से आप सभी का स्वागत करता हूं हमारे इस बिल्कुल नए आर्टिकल पर।  आज इस आर्टिकल में हम आपको तिरंगे से जुड़े कुछ रोचक तथ्य के बारे में बताएंगे।  तो दोस्तों अगर आप भी तिरंगे से जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानना चाहते हैं कि यह आर्टिकल आखरी तक जरूर पढ़िए।  

दोस्तों अगर आप भारत देश के नागरिक हैं तो जाहिर सी बात है कि तिरंगे को देखकर आपके रगों में भी देशभक्ति की लहर दौड़ उठती होगी । हमारे देश की यही विशेषता है।  लोग जब भी तिरंगा देखते हैं तो गर्व के साथ अपनी छाती चौड़ी कर लेते हैं । दोस्तों तिरंगा हमारे देश की आन बान और शान का प्रतीक है । हमारे देश का बच्चा-बच्चा तिरंगे का सम्मान करता है और हमेशा यही चाहता है कि यह तिरंगा आसमान की बुलंदियों को छूता रहें । 

भारत का राष्ट्रीय ध्वज भारत की राष्ट्रीयता एकता अखंडता तथा संप्रभुता का प्रतीक है। जब भी आसमान में तिरंगा लहराता है तो क्या जवान और क्या किसान हर कोई अपने आप पर फक्र महसूस करता है । लेकिन दोस्तों जिस तरह के का हम इतना सम्मान करते हैं और जिस तिरंगे को हम इतना पूजनीय मानते हैं कि हमें उसका इतिहास पता है ? अगर मैं आप लोगों से पूछा तो आप में से बहुत से लोगों के जवाब होंगे कि हमें नहीं पता है । 

बस इसीलिए आज हम आपको इस आर्टिकल में तिरंगे से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण रोचक तथ्य बताएंगे जिसे जानने के बाद आप खुद पर गर्व महसूस करेंगे। दोस्तों अगर आप भी जानना चाहeती हैं कि तिरंगे से जुड़े रोचक तथ्य कौन-कौन से हैं तो नीचे दी गई जानकारी ध्यान से पढ़ें। 

तिरंगे से जुड़े रोचक तथ्य

वैसे तो हमारे तिरंगे की महत्वता को शब्दों के माध्यम से बयान नहीं किया जा सकता है लेकिन फिर भी हम आपको तिरंगी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य बताने का प्रयत्न कर रहे हैं।  इसे जानने के बाद निश्चित रूप से आपको अच्छा लगेगा।

भारत के राष्ट्रीय ध्वज को तिरंगा नाम से जाना जाता है। तिरंगा दो शब्दों से मिलकर बना है । पहला तीन और दूसरा रंग । ऐसा इसलिए क्योंकि तिरंगे में तीन रंगों का इस्तेमाल होता है । केसरिया सफेद तथा हरा।

जब भारत के राष्ट्रीय ध्वज का मॉडल प्रस्तुत किया गया तो उसके बीच में अशोक चक्र को देखकर महात्मा गांधी को बहुत गुस्सा आ गई थी । महात्मा गांधी ने तिरंगे को सलाम करने से मना किया था । महात्मा गांधी ने प्रस्ताव रखा था कि जब तक तिरंगे में अशोक चक्र की जगह चरखा नहीं बनेगा तब तक मैं तिरंगे को सलाम नहीं करूंगा। 

हमारे देश की पार्लियामेंट में देश की इकलौती ऐसी जगह है जहां पर एक साथ तीन तिरंगो को फहराया जाता है। 

हमारे भारत देश में एक कोड ऑफ इंडिया नाम का एक कानून भी है । इस कानून में तिरंगा फहराने के नियम तथा तरंगों से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण नियम लिखे गए हैं। 

हमारे देश में अगर कोई व्यक्ति गलत तरीके से तिरंगा फहराता है तो उसे जेल होने का भी प्रावधान है। 

भारतीय झंडे का कार्य 3:4 में ही होना चाहिए जबकि अशोक चक्र का कोई आकार तय नहीं है।  आप अशोक चक्र को कितने प्रकार का कर सकते हैं   बस इसमें आपको 24 तिलीया बनानी है। 

हमारे देश में किसी भी बिल्डिंग को ढकने , किसी भी गाड़ी के पीछे तथा किसी भी जहाज में तिरंगे का निशान बनाना गैरकानूनी है। 

अगर हमारा झंडा जमीन कुछ हो जाता है तो इसे गैरकानूनी माना जाता है तथा इसे तिरंगे का अपमान समझा जाता है।

हम किसी भी सजावट का सामान बनाने में तिरंगे का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं यह गैरकानूनी है। 

हमारे देश के नियम है कि हम तिरंगे के अलावा और किसी भी झंडे को तिरंगा से ऊंचा नहीं फहरा सकते हैं।

पहले हमारे देश में रात में झंडा फहराना गैरकानूनी था।  पर 2009 में एक कानून पारित किया गया जिस कानून के अनुसार अब रात में भी तिरंगा फहराया जा सकता है। 

जब भी हमारे देश में कोई जवान शहीद हो जाता है तो उसे तिरंगे में लपेटा जाता है।  इस स्थिति में तिरंगे का केसरिया रंग सिर की तरफ होता है तथा हरा रंग पैरों की तरह होता है।  शहीद जवान के शव को जलाने के समय तिरंगा हटा लिया जाता है । इस तिरंगे को जलाया नहीं जाता है इसे भारी वजन बांधकर गंगा नदी में प्रवाहित कर दिया जाता है।

गणित से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियां

 निष्कर्ष

दोस्तों यह आपके लिए तिरंगे से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियां थी । हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपने पहले नहीं सुनी होंगी । आज की जानकारी यहीं पर समाप्त होती है।  हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी । अगर आप इसी प्रकार की अन्य जानकारियां पाना चाहते हैं तो हमारा आर्टिकल प्रतिदिन पढ़िए। अपना कीमती समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।  शुभ दिन।